स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार पैक करने की मिलेगी नई नौकरी

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार पैक करने की मिलेगी नई नौकरी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी लाखों स्वयं सहायता समूह की महिलाओं कोअब सरकार के माध्यम से नए रोजगार के अवसर प्रदान किया जा रहे हैं आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को और पोश आहार बनाकर पैक करने का कामदिया जाएगा आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोश आहार का काम आप लोगों के ब्लॉक के माध्यम से दिया जाएगा लिए जानते हैं विस्तार से इस आर्टिकल के माध्यम से कि आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार (दलिया) का काम कैसे मिलेगा जानकारी विस्तार से इस आर्टिकल के माध्यम से जानते हैं विस्तार से

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार पैक करने की मिलेगी नई नौकरी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन एनआरएलएम) के माध्यम से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को नए-नए रोजगार प्रदान करने के लिए प्रशासन लगातार कार्य कर रही है स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार (दलिया) बनाकर पैक करने का अब नया रोजगार दिया जाएगा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार (दलिया) बनाने का काम उनके ही ब्लॉक के माध्यम से दिया जाएगा इसके बारे में आप सभी लोग अपने ब्लॉक केअधिकारी से संपर्क कर सकते हैं

आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं  म्याऊं, सिलहरी और रोहणी में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पैकिंग करने का काम मिल रहा है वही 15 अक्टूबर तक अंबियापुर और आसफपुर में भी इकाई का काम शुरू कर देगी मिशन के माध्यम से पोषाहार बनाकर पैक करने के बाद दो ब्लॉक के केंद्रों पर इसकी सप्लाई की जाएगी आप सभी महिलाओं को बता देगी अभी नैफेड (नेशनल एग्रीकल्चरलकोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड की ओर से अधिकांश केंद्रों पर पोषाहार पहुंचाया जा रहा है जिसके माध्यम से सभी ब्लॉक के पर कार्य शुरू होने के लिए इसका वितरण कराया जाएगा

समूह की महिलाएं पोषाहार का पैकिंग का काम कैसे करेंगी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार का पैकिंग का काम दिया जाएगा जिसके जरिए उन्हें प्रत्येक माह गेहूं एफसीआई की तरफ से पहुंचाया जाएगा और समूह की महिलाओं को मशीन के माध्यम से गेहूं के दलिया बनाएंगे और फिर उन सभी समूह की महिलाएं पैक करके केंद्रों पर पहुंच आएंगी समूह को महिलाएं जो भी पोषाहार का काम करना चाहते हैं वह अपने समूह सखी या ब्लॉक के अधिकारी से संपर्क करें

समूह की महिलाओं को पोषाहार पैक करने पर कितना वेतन मिलेगा

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी स्वयं सहायता समूह की महिलाएं अगर पोषाहार की पैकिंग की नौकरी करती है तो उन सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को जो इस नौकरी को करेंगे उन महिलाओं को मनरेगा के तहत समूह की महिलाओं को मजदूरी के बराबर धनराशि दी जाएगी

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार का काम कैसे मिलेगा

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी लाखों स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पोषाहार बनाकर पैक करने की नौकरी दी जाएगी उन सभी शहंशाह का समूह की महिलाओं को उनके ही ब्लॉक के द्वारा से नौकरी प्रदान की जाएगी राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से स्वयं सहायता समूह को काम करने वाली महिलाओं को बढ़ावा देने के लिए स्वयं सहायता समूह लगातार कार्य कर रही है स्वयं सहायता समूहको आंगनबाड़ी केंद्रों पर दलिया बनाने का कार्य दिया जाएगा उन सभी महिलाओं को पोषाहार करने केंद्रों तक पहुंचाया जाएगा उन सभी महिलाओं को नौकरी प्राप्त करने के लिए अपने ब्लॉक से संपर्क करना होगा आसानी से उन सभी महिलाओं को पोषाहार की नौकरी प्राप्त हो जाएगी

अगर आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को हमारा या आर्टिकल पसंद आया तो अपने लोगों के साथ आर्टिकल जरूर साझा कीजिए हमें उम्मीद है कि आर्टिकल आप लोगों को पसंद आया होगा आप सभी महिलाएं अगर कोई भी समूह से है तो आप हमें कमेंट जरूर करें हम अपनी राय कमेंट में जरूर साझा करें हम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेंगे आर्टिकल पढ़ने के लिए धन्यवाद

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *